Home » Forums Archives
Member Posts

किसी का खयाल तुम्हारे जेहन में जब ठहरने लगे – Poem – By Tushar Srivastava (Kavitalay Member)

किसी का खयाल तुम्हारे जेहन में जब ठहरने लगे कहो ये दिल से उसी दिन से वो सम्भलने लगे। वो एक शख्स जो सामने हो तो खुश होऊँ मैं अश्क आ जाएं गर सपनों में भी बिछड़ने लगे। अभी देखा ही कहाँ उसका हुनर तुमने ऐ लोगों वो जरा जुल्फें गिरा दे तो शाम ढलने […]

Member Posts

Kavita – कवितालय – By Ajay Tangar (Kavitalay Member)

अनजाने से चेहरों को है  दोस्त बनाता कवितालय  पथ से भटके लोगों को है राह दिखाता कवितालय  कभी कृष्ण सा सारथी बनकर  ज्ञान बढ़ाता कवितालय  कभी विरह के अनुभव से है खूब रुलाता कवितालय  राजनीति से परे बैठकर सुख-दुख बतलाता कवितालय   कभी शाम हमराह बनके  प्यार सिखाता कवितालय कभी नशे में चूर स्वप्न को जमी […]