Home » Forums Archives
Member Posts

Kavita – तुम कहते मै सुनती – By Soni Dimri (Kavitalay Member)

बीते जमाने थे वो जब इश्क किया करते थे मै चुप तुमको देखती और तुम कहते मैं सुनती। रात चांदनी वो, हवाएं ठंडी स्वप्न सागर में खो जाते लहरों की भांति तट पर आते कितना पाक प्रेम था वो जब तुम कहते मैं सुनती। सर्द हवा ना सर्द लगे ग्रीष्म ऋतु जब बसंत लगे इन्हीं […]