Home » Forums Archives
Member Posts

नेह हमारा निर्मल निर्झर – Kavita – By Sumit Vijayvargiya (Kavitalay Member)

नेह हमारा निर्मल निर्झर, अविरल और अभिराम प्रिये, बीत गए हो बरस भले ही, अधरों पर है नाम प्रिये। बेशक याद तुम्हें भी होगा, वो आंखों से बतियाना, फूल गुलाबों के दे देकर, प्रणय दिलों तक पहुँचाना, उन फूलों से महक रहे है, मेरे सुबह और शाम प्रिये। बीत गए हो बरस भले ही, अधरों […]

Member Posts

तेरे जाने के बाद – Nazm – By Arpit Thakur (Kavitalay Member)

किसी के जाने के बाद यार क्या-क्या नहीं बदलता। पहले मैं डीपी बहुत बदलता था यार अब नहीं बदलता। कभी वह पास से गुजर जाती थी, तो क्या-क्या बदल जाता था, और अब अगर गुजरे तो मेरा मूड तक नहीं बदलता। तू अचानक कितनी बदल गई मगर ताज्जुब है, अभी तक मेरे जहन में, तेरा […]

Member Posts

Kavita – चाहत – By Salil Saroj (Kavitalay Member)

तेरे शहर में फिर से आना चाहता हूँ मैं मेरा दिल फिर से जलाना चाहता हूँ मैं| जो आग लगी  लेकिन फिर बुझी  नहीं उसी राख से धुआँ उठाना चाहता हूँ मैं| इक दरख्त पे अब भी तेरा मेरा नाम है उसे अब शाख से मिटाना चाहता हूँ मैं| तेरे नाम के  किताबों में  जो […]