Home » Forums Archives
Member Posts

किसी का खयाल तुम्हारे जेहन में जब ठहरने लगे – Poem – By Tushar Srivastava (Kavitalay Member)

किसी का खयाल तुम्हारे जेहन में जब ठहरने लगे कहो ये दिल से उसी दिन से वो सम्भलने लगे। वो एक शख्स जो सामने हो तो खुश होऊँ मैं अश्क आ जाएं गर सपनों में भी बिछड़ने लगे। अभी देखा ही कहाँ उसका हुनर तुमने ऐ लोगों वो जरा जुल्फें गिरा दे तो शाम ढलने […]

Member Posts

Kavita – तस्वीर बना देना – By Vandana Agarwal ‘निराली’ (Kavitalay Member)

फुर्सत गर तुम्हें मिले  मेरी भी इक तस्वीर बना देना  खुद की छवि से  मेरी भी इक छवि निकाल लेना  गर ना मिले रंग कोई भी  अपने रंग से मुझे रंग देना  बीते हुए अहसासों की इक लकीर हृदय के कैनवस पे उतार लेना।  –Vandana Agrwal