उम्रें गुजर गयी हैं अधूरी दास्तां के साथ – By Tushar Srivastava (Kavitalay Member)

उम्रें गुजर गयी हैं अधूरी दास्तां के साथ,
मिलती है क्या कभी ये जमीं आसमां के साथ|

नजरों में बस गया था बिना नज़र आये ही
आहिस्ता हुए गुम फिर अपने जान-ए-जां के साथ|

जाना किधर है और कहां मंजिल पता नहीं,
चलते ही जा रहे हो फिर भी क्यूँ जहां के साथ|

मुर्दा हैं वे जो बेच चुके हैं अपना ज़मीर,
जिंदा वो हैं जो जी रहे अपनी अना के साथ|

क्यों सहते जा रहे हैं यहाँ जुल्म-ओ-सितम सब,
जज्बात भी सिले हैं क्या सबकी जुबां के साथ|

सब कुछ तो ले गए हो अपनी याद छोड़कर,
लगता ये खुद ही जाएगी अब मेरी जां के साथ|
--Tushar Srivastava

Leave a Reply

%d bloggers like this: