अक्सर दरखतो के लिए – Kavita by Sarveshwar Dayal Saxena

Home » Kavita » अक्सर दरखतो के लिए – Kavita by Sarveshwar Dayal Saxena
Kavita
अक्सर दरख्तों के लिये 
जूते सिलवा लाया
और उनके पास खडा रहा
वे अपनी हरीयाली अपने फूल फूल पर
इतराते अपनी चिडियों में उलझे रहे

मैं आगे बढ़ गया
अपने पैरों को
उनकी तरह जड़ों में
नहीं बदल पाया
यह जानते हुए भी
कि आगे बढना निरंतर
कुछ खोते जाना
और अकेले होते जाना है

मैं यहाँ तक आ गया हूँ
जहाँ दरख्तों की लंबी
छायाएं मुझे घेरे हुए हैं…

किसी साथ के
या डूबते सूरज के कारण
मुझे नहीं मालूम
मुझे और आगे जाना है
कोई मेरे साथ चले
मैंने कब कहा चाहा जरुर!

By -
Sarveshwar Dayal Saxena

0 thoughts on “अक्सर दरखतो के लिए – Kavita by Sarveshwar Dayal Saxena

Leave a Reply

%d bloggers like this: