भरे तो कैसे परिंदा भरे उड़ान – Hindi Kavita by Zaki Tariq

Home » Ghazal » Kavita » Zaki Tariq » भरे तो कैसे परिंदा भरे उड़ान – Hindi Kavita by Zaki Tariq
Ghazal Kavita Zaki Tariq
 भरे तो कैसे परिंदा भरे उड़ान कोई
 नहीं है तीर से ख़ाली यहाँ कमान कोई

 थीं आज़माइशें जितनी तमाम मुझ पे हुईं
 न बच के जाएगा अब मुझ से इम्तिहान कोई

 ये तोता मैना के क़िस्से बहुत पुराने हैं
 हमारे अहद की अब छेड़ो दास्तान कोई

 नए ज़माने की ऎसी कुछ आँधियाँ उट्ठीं
 रहा सफ़ीने पे बाक़ी न बादबान कोई

 बिखर के रह गईं रिश्तों की सारी ज़ंजीरें
 बचा सका न रिवायत को ख़ानदान कोई

 'ज़की' हमारा मुक़द्दर हैं धूप के ख़ेमे
 हमें न रास कभी आया साएबान कोई

-- Zaki Tariq

aankhe aurat Dard dhaaga Dil duniya ehsaas facebook geet ghazal gulaab hindi hindi geet hindikavita hindi kavita ishq kalai kavita kavitalay kavya kheti Khwaab khwahish life love mehak nazm nigaahe poem preet prem Priyanka sad sahitya salil saroj Sawaal shayri stree Sumit Vijayvargiya Tushar Srivastava vandana Video women women empowerment zindagi

Leave a Reply

%d bloggers like this: